मध्यप्रदेश में बिजली उपभोक्ताओं को झटका, सरकार ने दिए बिजली के दाम बढ़ाने के संकेत

मध्यप्रदेश में बिजली उपभोक्ताओं को झटका, सरकार ने दिए बिजली के दाम बढ़ाने के संकेत

मध्यप्रदेश सरकार ने बिजली के दामो को बढाने के संकेत दिये हैं बता दें मध्य प्रदेश में बिजली कंपनियों का घाटा लगातार बढ़ रहा है. इस वजह से बिजली कंपनियों ने विद्युत नियामक आयोग को बिजली 5.28 फीसदी महंगी करने का. प्रस्ताव दिया है. यदि प्रस्ताव मंजूर होता है तो प्रदेश में एक बार फिर बिजली महंगी हो सकती है दरअसल मंत्री प्रियव्रत सिंह ने ट्वीट कर बिजली कंपनियों के बड़े घाटे के लिए तत्कालीन शिवराज सरकार की गलत नीतियों को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने लिखा बिजली कंपनियों का 47 हजार करोड़ का घाटा शिवराज सरकार की देन है. तत्कालीन बीजेपी सरकार अपने गलत नीतियों से बिजली कंपनियों को भयंकर घाटे में पहुंचा दिया है .ऊर्जा मंत्री ने ट्वीट कर कहा है मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में सरकार काम का दिखावा नहीं बल्कि काम करके दिखाने में विश्वास करती है. कांग्रेस सरकार का उद्देश्य मध्य प्रदेश को अच्छी और सस्ती बिजली उपलब्ध कराना है तो वहीं इसके विपरीत इसी मुद्दे को लेकर शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट में बिजली कंपनियों के बढ़ते घाटे के लिए मौजूदा सरकार की नीतियों और खराब फैसलों को जिम्मेदार ठहराया था. शिवराज ने कहा है कांग्रेस सरकार ने छोटे फायदे की जगह दूरगामी परिणामों के बारे में जरा भी सोचा होता तो बिजली कंपनी को बर्बाद होने से रोका जा सकता था. शिवराज सिंह ने कटाक्ष करते हुए यह भी कहा हैं की आखिरकार सरकार कब जागेगी. मामले पर  एक बार फिर से शिवराज के आरोप का जवाब ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने दिया. उन्होंने लिखा प्रदेश सरकार सस्ती बिजली देने के लिए काम कर रही है. इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत उपभोक्ताओं को बिजली दी जा रही है. विपक्ष इससे परेशान है. सरकार अपने वचन पत्र के मुताबिक उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली मुहैया कराने का काम जारी रखेगी.