10/12/2018 4:02:07 AM
BREAKING NEWS
Home » Home » रीवा पर्यटन विकास परिषद ने फोटोग्राफ्स कॉपी/चोरी करके लगवाई पर्यटन स्थलों एवं आर्ट & कल्चर गैलरी में फ़ोटो प्रदर्शनी!
रीवा पर्यटन विकास परिषद ने फोटोग्राफ्स कॉपी/चोरी करके लगवाई पर्यटन स्थलों एवं आर्ट & कल्चर गैलरी में फ़ोटो प्रदर्शनी!

रीवा पर्यटन विकास परिषद ने फोटोग्राफ्स कॉपी/चोरी करके लगवाई पर्यटन स्थलों एवं आर्ट & कल्चर गैलरी में फ़ोटो प्रदर्शनी!

कलेक्टर की अध्यक्षता में दागी संस्था रीवा पर्यटन विकास परिषद ने फोटोग्राफ्स कॉपी/चोरी करके लगवाई पर्यटन स्थलों एवं आर्ट & कल्चर गैलरी में फ़ोटो प्रदर्शनी!मंत्री से कराया उद्घाटन

विंध्य🌎संवाद।

चार वर्ष से निरन्तर निःस्वार्थ परिश्रम करते हुए विन्ध्य पर्यटन जगत में उल्लेखनीय योगदान देने वाले मशहूर रीवा टूरिज्म सोशल मीडिया ग्रुप एवं उनके संचालक की फेसबुक प्रोफाइल से विन्ध्य क्षेत्र के 10 से ज्यादा पर्यटन स्थलों की फोटोग्राफ्स चोरी करके कलेक्टर की अध्यक्षता में बनी संस्था रीवा पर्यटन विकास परिषद ने अपने नाम से फ़ोटो प्रदर्शनी लगाई है, साथ ही फोटोग्राफ्स में सौजन्य नाम भी अंकित नहीं किया है । 

इन पर्यटन स्थलों की फोटोग्राफ्स कॉपी/चोरी की गईं
रानी तालाब मंदिर रीवा, ऐतिहासिक रानी तालाब सिरमौर, क्योटी फॉल सिरमौर, भैरव बाबा गुढ़, बहुती फॉल मऊगंज, योगिनी माता रॉक आर्ट पेंटिंग सिरमौर, बसामन मामा धाम सेमरिया, बाँधवगढ़ नेशनल पार्क आदि । 

“नकल के लिये भी अक्ल की जरूरत होती है”
     यह कहावत भी रीवा पर्यटन विकास परिषद के लिए उस समय चरितार्थ हुई जब फ़ोटो प्रदर्शनी में कुछ फोटोग्राफ्स में पर्यटन स्थलों, जलप्रपातों के नाम की गलत जानकारी दी गयी, क्योटी को बहुती प्रपात दर्शाया गया ।

 सार्वजनिक बयान देने एवं माफी माँगने की माँग अन्यथा होगा सत्याग्रह आंदोलन 

    रीवा टूरिज्म सोशल मीडिया ग्रुप का कहना है कि प्रतिभा किसी सम्मान की मोहताज़ नही होती लेकिन कलेक्टर की अध्यक्षता में बनी रीवा पर्यटन विकास परिषद अगर परिश्रम का सम्मान एवं परिश्रमी का सहयोग नही कर सकती तो उसे अपमान करने का भी कोई हक नहीं है । 

 रीवा टूरिज्म सोशल मीडिया ग्रुप ने रीवा कलेक्टर से सार्वजनिक बयान जारी करते हुए माफी माँगने की मांग की है साथ ही ऐसा न करने पर सत्याग्रह आंदोलन करते हुए मुख्यमंत्री, मंत्री राजेन्द्र शुक्ल, कमिश्नर रीवा संभाग समेत जिले के समस्त विभागों के अधिकारियों, कर्मचारियों को सप्रमाण पत्र लिखकर सत्यता से अवगत कराने की बात कही है ।

About Amit Mishra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*