10/12/2018 3:48:40 AM
BREAKING NEWS
Home » Home » हिंदी पत्रकारिता दिवस:नसीहत का पर्व
हिंदी पत्रकारिता दिवस:नसीहत का पर्व

हिंदी पत्रकारिता दिवस:नसीहत का पर्व

हिंदी पत्रकारिता दिवस-:
आज हिंदी पत्रकारिता दिवस है इस अवसर पर देश भर के हिंदी मीडिया कर्मियों ने सोशल मीडिया, समाचार पत्र अन्य माध्यम देशभर को बधाई या यूं कहें कि पत्रकार साथियों को बधाई दी लेकिन इस बधाई के दो पक्ष थे पहला हिंदी पत्रकारिता के बदलते स्वरूप को स्वीकार करते हुए एक सकारात्मक बधाई संदेश और दूसरा कटाक्ष, विरोधाभास, दलाली, अनैतिक एवं नसीहत भरे संदेश.

इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि वर्तमान परिवेश में पत्रकारिता का स्वरूप बदला है हिंदी पत्रकारिता में बहुत बड़े परिवर्तन देखने को मिले लेकिन इसका यह मतलब नहीं है हिंदी पत्रकारिता पूर्णरूप से नकारात्मक हो चुकी है इसका यह मतलब नहीं है कि हिंदी पत्रकारिता एक ऐसी खाई की ओर बढ़ चुकी है जिससे हिंदी पत्रकारिता का विनाश हो जाएगा.
वर्तमान में पूंजीपतियों द्वारा मीडिया का अधिग्रहण एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से भ्रम और द्वंद की स्थिति के कारण हिंदी पत्रकारिता की विश्वसनीयता पर जरूर प्रश्नचिन्ह खड़े हुए हैं लेकिन समाचार पत्र आज भी खड़े हैं और इस धारणा को तोड़ रहे हैं पत्रकारिता बिक चुकी है.  आज सोशल मीडिया में हिंदी पत्रकारिता दिवस से ज्यादा पत्रकारिता को नसीहत देने वाला रहा. दिलचस्प यह रहा की ऐसे लोग हिंदी पत्रकारिता को नसीहत दे रहे थे जिन्हें पत्रकारिता का मूल नहीं पता जिन्हें पत्रकारिता का धर्म नहीं पता ऐसे लोग पत्रकार को पत्रकारिता करना सिखाने लगे . ऐसे वक्त में एक पत्रकार का उनको जवाब देना लाजमी है कर्मठ .
पूंजीवाद के वर्चस्व के कारण कई बार समाचार पत्र, चैनल और अब सोशल मीडिया भी पाक्षिक हुआ है. वक्त पत्रकारिता को नसीहत देने के बजाय कैसे उसमें सुधार किया जाए कैसे पूंजीवादी वर्चस्व को कम किया जाए इस पर विमर्श की जरूरत है.
पत्रकारिता दिवस पर नकारात्मक संदेश पत्रकारिता के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे युवा साथियों का उत्साह खत्म करते है, क्योंकि हर युवा लंबे समय से पत्रकारिता में काम कर रहे वरिष्ठ पत्रकार की ओर बड़ी उम्मीद के साथ देखता है, मीडिया घरानों में काम कर रहे बड़े पत्रकारों को देख जीवन में आगे बढ़ता है और अगर ऐसे ही लोग पत्रकारिता के बारे में नकारात्मक बातें करने लगे तो  सोचिए पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहा एक छात्र, युवा कैसे अपने आप को इस क्षेत्र में विकसित कर पायेगा.

अमित मिश्रा

About Amit Mishra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*