गुरमीत राम रहीम की जेल में अचानक बिगड़ी तबीयत,दिल्ली स्थित एम्स ले जाया गया

साध्वी यौन शोषण मामले में 20 साल की सजा काट रहा

गुरमीत राम रहीम की जेल में अचानक बिगड़ी तबीयत,दिल्ली स्थित एम्स ले जाया गया

साध्वी यौन शोषण मामले में 20 साल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की जेल में अचानक तबीयत बिगड़ गई है। तबीयत बिगड़ने के बाद गुरमीत को मंगलवार सुबह करीब 5.30 बजे रोहतक की सुनारिया जेल से दिल्ली के एम्स अस्पताल ले जाया गया।

दिल्ली स्थिति एम्स में गुरमीत के सेहत को लेकर जरूरी जांचें की जा रही हैं। बताया जा रहा है कि कोरोना को लेकर भी कुछ टेस्ट किए गए हैं। हालांकि अब तक इसको लेकर कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। ये पांचवी बार है जब सजा काट रहा गुरमीत जेल से बाहर आया है।

दो महीने में तीसरी बार बिगड़ी थी तबीयत
यौन शोषण मामले में 20 साल की सजा काट रहे गुरमीत की तबीयत दो महीने पहले यानी मई में भी बिगड़ी थी। तक भी गुरमीत तबीयत बिगड़ने के चलते रोहतक पीजीआई में भी स्वास्थ्य जांच हुई थी।

वहीं पिछले महीने यानी जून में भी गुरमीत को मेदांता अस्पताल में दाखिल कराया गया था। जहां पर टेस्ट के दौरान प्राथमिक जांच में कोरोना पॉजिटिव मिला था।

लेकिन आरटीपीसीआर रिपोर्ट नेगेटिम आई थी, जिसके बाद उसे कोविड वार्ड से हटाकर 15वीं मंजिल पर शिफ्ट किया गया था। यानी दो महीने में तीसरी बार गुरमीत की तबीयत बिगड़ी है।

जेल से पांचवी बार आया बाहर
दरअसल पिछले कुछ समय में गुरमीत अलग-अलग कारणों से 5 बार सुनारिया जेल से बाहर आ चुका है।
- 12 मई को उसे ब्लड प्रेशर लो होने पर पीजीआईएमएस लाया गया था।
- 17 मई को 12 घंटे की पैरोल पर वो गुरुग्राम में मां से मिलने आया था।
- 3 जून को पेट में दर्द होने पर अल सुबह पीजीआई में उपचार के लिए ले जाया गया।
- 06 जून को मेदांता गुरुग्राम में लाया गया था

चार साल से काट रहा सजा
डेरा प्रमुख गुरमीत को साध्वियों से रेप मामले में 28 अगस्त 2017 को सीबीआई की विशेष अदालत ने 10-10 साल की दो सजाएं सुनाईं थीं। यानी 20 वर्षों की सजा गुरमीत पिछले 4 वर्षों से काट रहा है।
इसके बाद पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में उसे उम्रकैद की सजा हुई। तभी से राम रहीम इस जेल में बंद है।

दरअसल गुरमीत के अलावा तीन अन्‍य दोषियों को पत्रकार रामचंद्र छत्र‍पति हत्‍या मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। इसके साथ ही उन पर 50-50 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया था।

इस सजा की खास बात यह थी कि गुरमीत की उम्रकैद की सजा खत्म होने के बदा उसकी ये सजा शुरू होगी। उस मामले में उसे 70 साल की आयु पूरी होने तक कैद काटनी होगी और उसके बाद उम्रकैद शुरू होगी।