कानपुर देहात के परौंख पहुंचते पुरानी यादों में खो गए राष्ट्रपति कोविंद,धरती को किया प्रणाम

राष्ट्रपति कोविंद सबसे पहले पथरी देवी मंदिर गए |

कानपुर देहात के परौंख पहुंचते पुरानी यादों में खो गए राष्ट्रपति कोविंद,धरती को किया प्रणाम

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद रविवार सुबह एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर से कानपुर देहात के अपने पैतृक गांव परौंख पहुंचे. परौंख में जनसभा स्थल मंच से राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि मेरे आने से जितनी आपको खुशी है, उससे ज्यादा खुशी मुझे है. इसीलिए हेलीकॉप्टर से उतरकर अपनी धरती को स्पर्श कर प्रणाम किया. कहा कि इस बार आने में जितना देर हुई, कोशिश होगी कि अगली बार इतना विलम्ब न हो. राष्ट्रपति के स्वागत के लिए द्वार-द्वार रंगरोगन के साथ लिपाई की गई. राष्ट्रपति बनने के करीब चार साल बाद रामनाथ कोविंद पहली बार पैतृक गांव परौंख पहुंचे. इससे गांव के लोगों का सालों का इंतजार खत्म हो गया. इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मौजूद रहे.

परौंख गांव पहुंचते ही राष्ट्रपति कोविंद सबसे पहले पथरी देवी मंदिर पहुंचे. उनके साथ उनकी पत्नी सविता कोविंद और उनकी बेटी भी मौजूद रहीं. विधि-विधान से पुजारी कृष्ण कुमार बाजपेई ने पूजा संपन्न कराई. राष्ट्रपति इस मौके पर फल-मिष्ठान अपने साथ ही लाए थे. राष्ट्रपति ने देवी के चरणों में 11 हजार रुपये अर्पित किए. राष्ट्रपति ने इस मौके पर अपनी बेटी, मुख्यमंत्री और राज्यपाल को पथरी देवी मंदिर के महत्व और अपने पिता द्वारा की गई देखरेख के बारे में भी बताया|

उन्होंने कहा कि मैं आपके जैसा नागरिक हूं, बस संविधान में उसे प्रथम नागरिक का दर्जा है. सपने में नहीं सोचा था कि राष्ट्रपति (President) बनकर सेवा करूंगा.